Positive things about Mr Upendra kushvaha

MOST DESERVING & CAPABLE CANDIDATE FOR CHIEF MINISTER POST

According to the Arun Kumar and direct to the people of Bihar, the state president of the RLSP, said in Patna that Kushwaha is the most capable and deserving candidate for the post."The people of Bihar want to see Kushwaha as the next chief minister..

HE IS ACTUALLY A FARMER AND WANT TO WORK FOR FARMER

As per the nation quote of RLSP :- "JAI JAWAAN" "JAI KISAN" "JAI NOUJWAN" It is my professional honour and my personal pleasure that i am serving my self to our nation. Our country Based on agriculture and our farmer brothers are god because they are feeding whole India and we also exporting our thing to other countries. So, i cant see the suicide of our brother our farmers. So first of all i want to work for our farmers. If i work for a farmer they will work for whole nation and beyond nation they are working for nature and with the nature they are working for whole universe and apportunity comes to me as a leader of RLSP so i will serve my nation till i die and on prority basis i work for our peoples..

HARD WORK AS PER POLITICAL CAREER

Upendra got involved in politics in 1985. From 1985 to 1988, he was Yuva Lok Dal’s General Secretary and its National General Secretary from 1988 to 1993. He assumed more importance in the state politics when he went on to become General Secretary of Samata Party in 1994. Upendra remained in that position till 2002. It was in 2000 when Upendra got elected to the Bihar Assembly. He became Samata Party’s Deputy Leader at the assembly and remained in that post till 2004. However, he became the Leader of Opposition in Bihar Assembly in March 2004 and successfully managed his responsibilities till February 2005.

LEADERSHIP QUALITY

Whatever ethical plane hold himself to, when he is responsible for a team of people, its important to raise the bar even higher. Your Party and its Supporter are a reflection of yourself, and he is making  honesty and ethical behavior as a key value, for team will follow suit.

Kushwaha's dream Works - Having a great idea, and assembling a team to bring that concept to life is the first step in creating a successful party venture. While finding a new and unique idea is rare enough; the ability to successfully execute this idea is what separates the dreamers from the entrepreneurs.

Kushwaha Said - "As a public representative for BIHAR , I have dedicated much of my career to understanding and dealing with the issues and concerns of the farming community and those living in rural areas. The honour of being appointed for nation  Agriculture and Rural Development has given me the opportunity to continue this work at Good level."

PARTY MISSION

There may be days where the future of your brand is worrisome and things aren’t going according to plan. This is true with any Party, large or small, and the most important thing is not to panic. Part of yours as a leader is to put out fires and maintain the team morale. Keep up your confidence level, and assure everyone that setbacks are natural and the important thing is to focus on the larger goal. As the leader, i want to do good and positive thing for our people who help us to raised, if we will help keep the team feeling the same. Remember, our Party will take cues from us, so if we exude a level of calm damage control, our party will pick up on that feeling. The key objective is to keep everyone working and moving ahead. This is our party mission.

Positive things about Mr Arun Kumar

Mr. Arun Kumar | PRADESH ADYAKSH BIHAR & SAANSAD

Arun Kumar is an Indian politician who is a Member of the Legislative Assembly representing the Jahanabad constituency in the Lok Sabha, which is the lower house of the Parliament of India. He won his seat in the Indian general election, 2014 as a Rashtriya Lok Samta Party candidate.He is close to the present Prime Minister of India,Narendra Modi.

Mr. Kumar has been a member of various political parties and as of 2014 is Bihar State President of the Rashtriya Lok Samta Party. His father is Brijnandan Sharma, who represents Bihar from Jehanabad.

Along with Anand Mohan Singh and Akhlaq Ahmed, Kumar had been sentenced to death in 2007 for his alleged part in the lynching of a Dalit district magistrate. The ruling in his case and that of Ahmed was overturned on appeal when it was determined that he had been present but not involved in the murder; Singh's sentence was reduced to life imprisonment.

Mr Kumar and a younger brother own Gyan Bharti, a chain of residential schools in Bihar. One of his four brothers is also an MLA, representing the Janata Dal (United) party..

Positive things about Mr Ram Kumar

Mr. Ram Kumar Sharma | SANSAD , SITAMADHI

Ram Kumar Sharma is an Indian politician and a member of parliament from Sitamarhi (Lok Sabha constituency),Bihar. He won the Indian general election, 2014 being an Rashtriya Lok Samta Party candidate.

The Bharatiya Janata Party (BJP)'s ally in Bihar, the Rashtriya Lok Samata Party (RLSP), announced candidates for two of the 3 seats it is contesting in the Lok Sabha polls in the state.

RLSP chief Upendra Kushwaha, who released the first list, said the party has decided to field him from Karakat and Arun Kumar from Jehanabad and the RAM KUMAR SHARMA is one of them from sitamadhi..

Counting has started at eight o'clock in the morning

With the election of the packages under local fixed quota of 24 seats for the Legislative Council the task of counting has started at eight o'clock in the morning. Much.Oh districts created in the way that the counting centers amid tight security, counting of votes continues.
According to the beginning of voting was held on July seven. The local authority and the workers involved in all subsidiaries around 1.38 lakh voters exercised their franchise and vote. Legislative Council election results, which is based on the premise that he Bvisy determine which political party associated with the upcoming elections in Bihar and understand that we are declaring a.
National Public parity party's two candidates were in the fray, BJP had fielded 18 candidates, four from the LJP. Similarly, the Janata Dal (United) and RJD put up candidates for the ten were four others on the seat of the alliance partners, the Congress and the NCP were candidates. For election at polling stations across the state made 534 voters had voted.
The electoral wave of recognition is sound and based on the lowest point of fixation. Almost all parties agree that the council election results show a trend in many ways the parties towards the common man. The implication is that all of the common man's trend is to the public, according to the chosen Pratyashi progress regarding fixed election BJP, JD-U, RJD, Congress, LJP, NCP and Ralospa were made on behalf of the candidates. Also a large number of independent candidates participated in the election.


केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा ने नौकरशाही डॉट इन से साक्षात्कार में कहा है कि बीजेपी के लोग अगर साम्प्रदायिक मुद्दो उठायेंगे तो उन्हें चुनाव में उसका खामयाजा भुगतना पड़ेगा.

नौकरशाही डॉट इन के सम्पादकइर्शादुल हकको दिये एक साक्षात्कार में कुशवाहा ने यह भी स्वीकार किया है कि लालू-नीतीश के मिल जाने के बाद अब विधानसभा चुनाव में भाजपा गठबंधन को कड़ी मेहनत करनी पड़ेगी. उन्होंने कहा कि एनडीए गठबंधन इस बात को ध्यान में रख कर रणनीति बना रहा है.

कुशवाहा ने दो राज्यों उत्तर प्रदेश और जम्मू कश्मीर का उदाहरण देते हुए बताया है कि इन राज्यो में चुनाव के दौरान साम्प्रदायिक मुद्दे उठाये गये तो भाजपा को चुनाव में नुकसान उठाना पड़ा. उन्होंने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि भाजपा के नेता बिहार में ऐसे मुद्दों से बचेंगे.

विधानसभा में उनकी पार्टी कितनी सीटों पर लड़ेगी यह बात अभी फाइनल नहीं हुई है लेकिन हमने एनडीए की बैठक में कहा है कि अब चुनाव नजदीक आ रहा है इसलिए हमें इस पर जल्द फैसला करना चाहिए. कुशवाहा ने कहा कि लोकसभा में हम जितनी सीटों पर लड़े थे, विधानसभा चुनाव में टिकट बंटवारे का वह आधार नहीं होगा. उन्होंने कहा कि सीट शेयरिंग पर फाइनल बात करने से पहले हम 20-21 जून को अपनी पार्टी की राज्यस्तरीय बैठक हाजीपुर में कर रहे हैं. इसमें हम पार्टी कार्यकर्ताओं से फिडबैक लेंगे और उसी आधार पर तय करेंगे कि हम कितनी सीटों से चुनाव लड़ सकते हैं.

लालू-नीतीश के एक होने का मनोवैज्ञानिक असर एनडीए पर क्या पड़ा है?

यह बात ठीक है कि दोनों अगर अलग-अलग लड़ते तो बात दूसरी होती और रास्ता थोड़ा आसान होता. इस बात में कोई शक नहीं कि उनके साथ हो जाने से हमलोगों को ज्यादा मेहनत करनी पड़ेगी. ऐसे में हमें भी इसी आधार पर अपनी रणनीति बनाने की जरूरत पड़ रही है. लेकिन बिहार के लोगों ने एक तरह से मन बना लिया है एनडीए के पक्ष में. और एनडीए की सरकार ही बनेगी बिहार में. लोगों को पता है कि दिल्ली और बिहार दोनों जगह एनडीए की सरकार होगी तो विकास का काम ज्यादा होगा.

दिल्ली में मोदी का चेहरा काम नहीं आया तो बिहार में कैसे कह रहे हैं कि एनडीए की सरकार बनेगी?

देखिए दिल्ली की परिस्थिति अलग थी और बिहार की अलग. दिल्ली में एक नया चेहरा (केजरीवाल) दिख रहा था लेकिन यहां नया चेहरा कोई दिख रहा है तो एनडीए का. बाकी पार्टियों में सब पुराने चेहरे हैं. पुराने चेहरे की तरफ लोग आकर्षित नहीं होंगे.

नया चेहरा से क्या तात्पर्य है?

नया चेहरा मतलब, यह गठबंधन नया है. एक तरह से बिहार में एक्सपेरिमेंट किया हुआ यह गठबंधन सिर्फ लोकसभा के लिए है. विधानसभा में यह गठबंधन नया है. हमारी पार्टी तब नयी थी. एलजीपी कहीं और थी. लेकिन अब यह गठबंधन नये स्वरूप में लोगों को सामने है.

दिल्ली और बिहार का फर्क यह भी है कि वहां मुसलमान 9-10 प्रतिशत मात्र हैं लेकिन बिहार में 16.5 प्रतिशत हैं तो क्या भाजपा गठबंधन यह उम्मीद करता है कि वह मुसलमानों का वोट अपनी तरफ खीच पायेगा?

निश्चित रूप से हम उम्मीद करते हैं. बिहार में, जहं तक मुसलमानों की बात है, उनके यहां भी गरीबी, बेबसी, बेरोजगारी है. उन्हें भी रोजगार चाहिए, अच्छा जीवन स्तर चाहिए औऱ इसकी आकांक्षा उनकी भी है. मुसलमान भी उस परिस्थिति से ऊबरना चाहते हैं. अब पुरानी बातों के आधार पर लोग वोट ले लें, ऐसा संभव नहीं है. साम्प्रदायिकता-साम्प्रदायिकता का शोर करके कुछ लोग मुसलमानों का वोट लेना चाहते हैं लेकिन अब हालात बदल गये हैं और मैं समझता हूं कि बिहार के मुसलमान इस झांसे में नीहं आने वाले. कहां कहीं साम्प्रदायिकता का खतरा है?

खतरा है नहीं? पिछले एक साल में जब से मोदी की सरकार बनी है तबसे लव जिहाद, घर वापसी और धर्मांतरण के मुद्दे के कारण मुसलमानों में काफी डर का माहौल है.

देखिए मैं एक चीज स्पष्ट कर दूं. एनडीए के लोगों ने इन मुद्दों को नहीं उठाया है, बल्कि भारतीय जनता पार्टी के लोगों ने उठाया है. लेकिन बिहार पूर्ण रूप से अछूता रहा है. और जिन राज्यों में भारतीय जनता पार्टी के लोगों ने इन मुद्दों को उठाया है, उसका खामयाजा भाजपा के लोगों को भुगतना पड़ा है.

तो आप मान रहे हैं कि बीजेपी के लोग अगर ऐसे मुद्दे( साम्प्रदायिक) उठायेंगे तो उन्हें खामयाजा भुगतना पड़ेगा?

निश्चित रूप से. यह बात हमने पहले भी कही है. कश्मीर चुनाव के समय ऐसे मुद्दे उठे जिसके चलते कश्मीर घाटी में भाजपा एक भी सीट नहीं जीत पायी. उत्तर प्रदेश में ऐसे मुद्दे उठाये गये तो वहां हुए उपचुनाव में भाजपा को काफी नुकसान हुआ. प्रधानमंत्री जी भी इससे काफी दुखी थे. उन्होंने लगातार कहा कि सिर्फ विकास को मुद्दा बनाना चाहिए. इस तरह की बातें उठा कर विपक्ष को मुद्दा नहीं दना चाहिए. हम समझते हैं कि भाजपा के मित्र इन बातों पर गौर करेंगे.

लेकिन पिछले कुछ हफ्तों में बिहटा, राजगीर और मोतिहारी के ढ़ाका विधानसभा क्षेत्र में साम्प्रदायिकता का खेल हुआ है और इसमें स्थानीय नेताओं के शामिल रहने की बात सामने आयी.

देखिए इस तरह का खेल जहां भी लोग खेल रहे हैं उससे बहुत नुकसान होगा. भले ही किसी एक क्षेत्र में इस तरह के प्रयास से कुछ लोग लाभ ले लें लेकिन पूरे बिहार के संदर्भ में देखें तो इससे नुकसान होगा. कुल मिला कर अगर इस तरह के प्रयास किये जाते हैं तो यह अब्जेकशनेबल है. किसी की जान के बदले वोट की राजनीति नहीं होनी चाहिए.

अगर एनडीए गठबंधन मुसलमानों का वोट लेना चाहता है तो उसे राजनीतिक नुमाइंदगी भी तो देनी चाहिए. लोकसभा चुनाव में एनडीए ने 54 में से मात्र दो मुस्लिम कंडिडेट को टिकट दिया.

देखिए इस मामले में एनडीए की तरफ से हम बात नहीं कर पायेंगे. हमारी पार्टी जब तय करेगी कि हम कितनी सीटों पर लड़ेंगे. इसके बाद हम आगे की बात तय करेंगे. लेकिन हम उम्मीदवार की उपलब्धता पर भी तय करेंगे. व्यावहारिक रूप से यह संभव नहीं हो पाता कि किस समुदाय और किस जाति को कितनी सीट दी जाये लेकिन यह निश्चित है कि हम अल्पसंख्यकों को उचित प्रतिनिधित्व देंगे.


कोई संग्राम या युद्ध नही : बिहार का हित

यह कोई संग्राम या युद्ध नही पर मिडिया का यह कथन सत्य और असत्य करना हमारे बस में है। हम बिहार के हित के लिए समक्ष आए है जो की हमारा कर्त्तव्य बनता है। कोई भी कार्यकर्ता तब तक खुद का सोच सकता है जब तक की वो सत्ता को समझा न हो। समझने के तत्पश्चात ही वह हितकारी हो सकता है। षड़यंत्र हमेसा से राजनीती का हिस्सा रहा है और रहेगा। लेकिन इन सब से परे हट कर एक अच्छा नेता नेतृत्व का पालन करता है जनता के हित के लिए।

यही करना चाहते है माननीय कुसवाहा जी अपनी सत्ता के बल पर क्यूंकि यह हित जनता के हित के लिए है।


NDA has to work harder in Bihar’

Rashtriya Lok Samata Party leader Upendra Kushwaha in New Delhi on Thursday

The tie- up between Bihar Chief Minister Nitish Kumar and RDJ leader Lalu Prasad has made the NDA’s work “harder” in the poll- bound State, Union Minister and BJP ally Upendra Kushwaha said here on Thursday, as he held talks with BJP president Amit Shah regarding their alliance. Shah held talks with the chief of Rashtriya Lok Samata Party ( RLSP), as he is keen to close out deals with Bihar allies at the earliest, to take on the formidable Lalu- Nitish combine.


राष्ट्रीय लोक समता पार्टी उपेंद्र कुशवाहा द्वारा लॉन्च की गयी। राष्ट्रीय लोक समता पार्टी ने लोगों की आर्थिक बिहार के विकास और कल्याण को सुनिश्चित अगर RLSP ठोस परिणाम के मामले में एक वितरण की पेशकश की। राष्ट्रीय दल एक राष्ट्र का प्रतिनिधित्व करता है और यह दल बिहार की अद्भुत भविष्य का प्रतिनिधित्व करता है।हमारी पार्टी युवाओं और किसानों की ताकत से बिहार का नवनिर्माण करेगी.‘जय जवान जय किसान-मिलके करेंगे नवनिर्माण’

Read More !

रालोसपा राष्ट्रीयता को प्रधानतम रखता है, हर भारतीय, चाहे उसकी जाति, पंथ या धर्म कुछ भी हो वो सब से पहले एक भारतीय है जहां सच 'राष्ट्रीय' राजनीति में विश्वास रखता है। यह कुरीति  और समाज के विभाजन की संकीर्ण राजनीति में विश्वास नहीं करता। पार्टी के एजेंडे को देश के लिए अपने प्यार के आधार पर लोगों को एकजुट करने के लिए है। इस पहचान को प्रधानता एक बार फिर से एक सांस्कृतिक और आर्थिक महाशक्ति के रूप में भारत का फिर से उद्भव के लिए मार्ग चार्ट होगा और यह हमारे देश के लिए गौरव प्रदान करेगा।

Read More !

एक तथ्य के आधार पर कार्यान्वित होने के लिए पार्टी के कारण पार्टी का प्रसार-संचार, और कैसे देश के लिए अपनी प्रमुख प्रधान जनता की सेवा करना ही लक्ष्य है। यह सरकार या समुदायों की तरह नहीं बल्कि हमारे लोकतांत्रिक लोगों के लिए हम सामाजिक या पर्यावरणीय प्रभाव के रूप साबित होते हैं। विचार-विमर्श उद्देश्य है। मूल्यों का आधार एक व्यक्ति या समूह का विश्वास बनाए रखना हैं, और इस मामले में संगठन को हर प्रकार से यानि, जिसमें तथ्यात्मक और भावनात्मक रूप से निर्णयबध्य होना होगा अटल और अविचारणीय स्तिथि के समक्ष ।

Read More !

Give us a Miss Call for Membership : 1800 - 313 - 1838

Dial No