About Party

BJP ally Rashtriya Lok Samta Party (RLSP) on Monday said that its party chief and union Minister Upendra Kushwaha should be declared the alliance's chief ministerial candidate for the upcoming Bihar polls. Arun Kumar, the state president of the RLSP, said in Patna that Kushwaha is the most capable and deserving candidate for the post. "The people of Bihar want to see Kushwaha as the next chief minister. Taking this view, the BJP-led NDA should project Kushwaha as the chief minister candidate," he said. Kumar is the MP from the Jehanabad constituency and is considered close to Kushwaha.

The Rashtriya Lok Samata Party (English: National People's Equality Party; abbreviated as RLSP) is a political partyin the Indian State Bihar, founded on 3 March 2013. It had previously existed as the Rashtriya Samta Party, established in 2009 by Upendra Kushwaha , and was relaunched as the Rashtriya Lok Samta Party by Kushwaha.

RLSP offered a delivery in terms of concrete results if voted to power and ensure economic development of Bihar and welfare of its people.

On 23 February 2014, the RLSP entered into an alliance with the Bharatiya Janata Party led National Democratic Alliance. As per the alliance, the RLSP contested three seats from Bihar for 2014 General Elections namely Sitamarhi, Karakat and Jahanabad. The party won all three seats as it rode the Modi wave which swept the 2014 Lok Sabha General Elections Upendra Kushwaha Announces Formation of RLSP on 03 MARCH 2013

The announcement came at a rally by Kushwaha's former party Bihar Navnirman Manch that he formed a few years ago after parting ways from Nitish Kumar, at Gandhi Maidan in Patna.

"Our party is going to give some serious contention to the JD-U that, in alliance with the Bharatiya Janata Party (BJP), has failed to show any result that was expected from it," Kushwaha said.

Unloading on the current government, the off again, on again supporter of Nitish Kumar, said that the law and order under the current administration had gone from bad to worse and the entire state was in the clutches of corrupt bureaucrats and the high-handedness of the police department.

This is not the first time Kushwaha has formed a new party after being marginalized by the Chief Minister. In 2009, he formed a party with the same name sans 'Lok' called Rashtriya Samata Party. However, within months, he dissolved the party only to once again join the Janata Dal – U to remain with Nitish Kumar.

The Bharatiya Janata Party on Sunday announced an alliance with prominent OBC (Other Backward Class) leader Upendra Kushwaha’s political outfit Rashtriya Lok Samata Party (RLSP) in Bihar.

State BJP president Mangal Pandey said the RLSP will be a new arm of the National Democratic Alliance (NDA) and will contest three seats in Bihar.

Mr. Kushwaha, who belongs to the OBC Koeri caste, quit the ruling Janata Dal (United) and resigned as its Rajya Sabha MP, in December 2012, following differences with Bihar Chief Minister Nitish Kumar. The OBC and EBC (Extremely Backward Class) form a key vote base of Mr. Kumar’s JD (U).

Mr. Kushwaha floated the RLSP in March 2013, before the JD (U)-BJP split. At the time of launching his party in Patna, he had said that his party would work towards ousting the NDA from Bihar.

On Sunday, however, he cited Gujarat CM and BJP’s CM candidate Narendra Modi’s vision for farmers and labourers as the reason for joining the BJP. “We stand for social justice. This is the first time an OBC person [Mr. Modi] is close to becoming the PM.”

The BJP and RLSP will together contest 40 Lok Sabha seats in Bihar, their leaders have said. Mr. Kushwaha will also support the BJP’s ‘rail roko’ campaign on the issue of special status.

The BJP said there was no decision yet on which three seats the RLSP would be contesting.

Patna: A month after quitting the Rajya Sabha seat as well as the Janata Dal (United)'s primary membership, senior leader Upendra Kushwaha on Sunday launched political party the Rashtriya Lok Samata Party with a pledge to oust the NDA government in Bihar.

Kushwaha unveiled the name and flag of his party at an impressive rally at the historic Gandhi Maidan. Apparently eyeing the support of minorities and the Most Backward Castes (MBCs) for revival of his fledgling political career, the RLSP founding leader lambasted both Chief Minister Nitish Kumar and RJD supremo Lalu Prasad for "be-fooling the people of Bihar for over two decades with one false promise or another".

"We will deliver in terms of concrete results if voted to power and ensure economic development of Bihar and welfare of its people," Kushwaha said. BJP firms up alliance with RLSP for general elections Sunday, 23 February 2014 - 5:39pm IST | Place: Ahmedabad | Agency: PTI

BJP and Rashtriya Lok Samata Party (RLSP) today announced a pre-poll alliance for the general elections under the NDA's banner, with the two parties contesting 37 and three seats, respectively, in Bihar. The state unit BJP chief Mangal Pandey told this to reporters, bringing to an end speculation about the alliance. BJP and Rashtriya Lok Samata Party (RLSP) today announced a pre-poll alliance for the general elections under the NDA's banner, with the two parties contesting 37 and three seats, respectively, in Bihar. The state unit BJP chief Mangal Pandey told this to reporters, bringing to an end speculation about the alliance. Flanked by BJP national general secretary Dharmendra Pradhan, former deputy chief minister Sushil Kumar Modi, Nand Kishore Yadav, CP Thakur, RLSP national president Upendra Kushwaha and its state unit chief Arun Kumar, Pandey said the seats to be contested by the new ally in Bihar would be decided in due course of time.

The state unit BJP chief neither confirmed nor denied speculation that RLSP will contest Nawada, Ujiarpur and Karakat parliamentary seats in Bihar. In addition to the pre-poll alliance with BJP, RLSP will also be part of the NDA in Bihar, Pandey said. RLSP national president Upendra Kushwaha hailed the leadership of Gujarat Chief Minister and wished him success in his endeavour to become the next prime minister which, Kushwaha claimed, would fulfil dreams of former chief minister and the socialist icon Karpoori Thakur. The RLSP president, who had quit JD(U) and also his seat as the Rajya Sabha MP two years ago to protest against Chief Minister Nitish Kumar's alleged dictatorial attitude, said his party would also support the BJP-sponsored 'rail chakka jam' in Bihar on February 28 to protest against the Centre's discriminatory attitude towards Bihar by denying it the special category status.

BJP ally RLSP announces candidates for two Bihar seats The Bharatiya Janata Party (BJP)'s ally in Bihar, the Rashtriya Lok Samata Party (RLSP), Tuesday announced candidates for two of the 3 seats it is contesting in the Lok Sabha polls in the state. RLSP chief Upendra Kushwaha, who released the first list, said the party has decided to field him from Karakat and Arun Kumar from Jehanabad. "The party will announce the candidate for Sitamarhi seat in the next three-four days," Kushwaha said. The BJP joined hands with Kushwaha's party last month and decided to give it three out of the 40 Lok Sabha seats in the state. Kushwaha is a former Janata Dal (United) Rajya Sabhamember but parted ways with Bihar Chief Minister Nitish Kumar in early 2013. The BJP is eyeing Kushwaha's castemen, Koeri, who have a presence across the state. The BJP has also joined hands with the Lok Janshakti Party (LJP) of Ram Vilas Paswan, who is known to enjoy the support of his Dalit caste, Paswan, known as Dusadh. The BJP has given seven seats to the LJP and the saffron party is contesting on 30 seats.

चुनाव परिणाम NDA में हो रहा है होली का माहौल

भारत में राजनीतिक दांवपेंचोंकेसाथ साथ राजनीती सूझबूझ का सबसे बड़ा उदहारण राजनीती दलों की मूल प्रवृत्ति गठबन्धन है। इस प्रवृत्ति को देखते हुए इसका सबसे बड़ा उदाहरण है -राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन(NDA),यह एक कार्यकारी बोर्ड या पोलित ब्यूरो के रूप में एक औपचारिक संरचना नहीं है अपितु यह व्यक्तिगत रूप से कुछ दलों के नेताओं की महत्वाकांक्षा को पूर्ण करने के लिये सीटों के उपचुनाव में साझा रणनीति बनाने का उच्चतम उदाहरण है। राष्ट्रहित के मुद्दों पर निर्णय लेने अथवा संसद में उन मुद्दों को उठाते समय दलों के बीच विभिन्न विचारधाराओं को देखते हुए कभी सहमति तो कभी असहमति जैसी कठिनाई आती है लेकिन इनमे सम्मिलित पार्टियो ने अच्छा उदाहरण दिया है सूझबूझ का और मिलकर साथ बढ़ने का।

इस चुनाव का नतीजों नेराष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधनमे एक राजनीतिक गठबंधनको और भी मजबूत कर दिया है । इसका नेतृत्वभारतीय जनता पार्टीकरती है।विधान परिषद चुनाव मतदान की 24 सीटों के परिणाम मिल चुके हैं। परिणामों को आगामी विधान सभा चुनाव के परिप्रक्ष्य में देखें तो जदयू-राजद गठबंधन के लिए राह आसान नहीं है। दूसरी ओर भाजपा का कद बड़ा होता दिख रहा है।

यहाँ भाजपा का बढ़ना और साथ ही साथ उसके नेतृत्व के अंतरगर्त नमो के उदाहरणानुसार रालोसपा का आगे बढ़ना लाजमी है क्यूंकि इनसब में बिहार का भविष्य भी निर्धारित होता है क्यूंकि यहाँ से जंगल राज का खात्मा होना आवश्यक है।भाजपा ने 12 सीटों पर जीत दर्ज की है। भाजपा के छपरा से सच्चिदानंद राय, औरंगााबद से राजन सिंह व गोपालगंज से आदित्य पांडेय ने जीत दर्ज की है। भाजपा के हरिनारायण चौधरी समस्तीपुर से, सुनील सिंह दरभंगा से, दिलीप जायसवाल पूर्णिया से, संतोष सिंह सासाराम से एवं सुमन महासेठ मधुबनी से जीत चुके हैं।

भाजपा प्रत्याशी सिवान से टुन्नाजी, बेगूसराय से रजनीश कुमार व दरभंगा से सुनील सिंह भी विजयी रहे हैं। मोतिहारी से बबलु गुप्ता ने भी भाजपा के खाते में एक सीट डाली है।

राजग प्रत्याशी नूतन सिंह (लोजपा) ने सहरसा से जीत दज की है।

पटना से निर्दलीय रीतलाल यादव ने भी जीत दर्ज कर की है। कटिहार जीते से निर्दलीय प्रत्याशी अशोक अगवाल भाजपा समर्थित हैं।

इस चुनाव का आसार और परिणाम चौकाने के साथ साथ उत्तम भविष्य का भी संकेत है और अगर आगामी विधान सभा चुनाव अंतिम चरण को मद्देनजर रखते हुए मानें तो राजग की राह आसान होती दिख रही है जो की इस पार्टी में सम्मिलित पार्टियो के अच्छे भविष्य तथा एक अच्छे गठबंधन का उदहारण है ।


Counting has started at eight o'clock in the morning

With the election of the packages under local fixed quota of 24 seats for the Legislative Council the task of counting has started at eight o'clock in the morning. Much.Oh districts created in the way that the counting centers amid tight security, counting of votes continues.
According to the beginning of voting was held on July seven. The local authority and the workers involved in all subsidiaries around 1.38 lakh voters exercised their franchise and vote. Legislative Council election results, which is based on the premise that he Bvisy determine which political party associated with the upcoming elections in Bihar and understand that we are declaring a.
National Public parity party's two candidates were in the fray, BJP had fielded 18 candidates, four from the LJP. Similarly, the Janata Dal (United) and RJD put up candidates for the ten were four others on the seat of the alliance partners, the Congress and the NCP were candidates. For election at polling stations across the state made 534 voters had voted.
The electoral wave of recognition is sound and based on the lowest point of fixation. Almost all parties agree that the council election results show a trend in many ways the parties towards the common man. The implication is that all of the common man's trend is to the public, according to the chosen Pratyashi progress regarding fixed election BJP, JD-U, RJD, Congress, LJP, NCP and Ralospa were made on behalf of the candidates. Also a large number of independent candidates participated in the election.


एनडीए सरकार ने साढ़े चार गुणा पंचायती राज का बजट बढ़ाया

गया। भाजपा के बिहार विधान मंडल के नेता सह पूर्व उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा है कि इस बार के विधान परिषद चुनाव में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के प्रत्याशियों की अप्रत्याशित जीत होने जा रही है। अभी राजग के पांच पार्षद विधान परिषद चुनाव मैदान में है। वहीं, जद यू, कांग्रेस एवं राजद के 19 पार्षदों चुनाव मैदान में है। उन्होंने कहा कि इतना तय है कि हम बढ़ेंगे। वहीं, यूपीए गठबंधन नीचे की ओर जाएगा। श्री मोदी गया में शुक्रवार की शाम भाजपा प्रत्याशी अनुज कुमार सिंह के आवास पर आयोजित प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित कर रहे थे।

भाजपा नेता श्री मोदी ने बताया कि यूपीए के मनमोहन सिंह की सरकार ने पंचायती राज के लिए पांच हजार करोड़ रुपया का बजट आंवटन दिया था। जबकि केन्द्र की राजग की नरेन्द्र मोदी सरकार ने पंचायती राज का बजट बढ़ाकर 23 हजार 500 करोड़ रुपया कर दिया। साथ ही राजग की मोदी सरकार पंचायती राज को विकास के मुद्दे पर और सशक्त बनाने के लिए कई अधिकार दी है। अब हर दो पंचायत पर एक कनीय तथा दस पंचायत पर कार्यपालक अभियंता की पदस्थापना की जाएगी। जो अपने कार्य क्षेत्र में करोड़ो रुपया की योजना को क्रियान्वित कराएंगे।

श्री मोदी ने आगे कहा कि नीतीश कुमार एवं लालू प्रसाद पहले अपराधी सरगनाओं को पालते-पोसते है। उन्होंने बताया कि अनंत सिंह के बड़े भाई दिलीप सिंह को लालू यादव ने मंत्री बनाया। नीतीश कुमार अपनी सभा में भीड़ जुटाने के लिए अनंत सिंह का इस्तेमाल करते रहे है। उन्होंने गया के जद यू प्रत्याशी मनोरमा देवी के पति बिंदी यादव पर कटाक्ष करते हुए कहा कि बिंदी यादव कौन हैं? किस आरोप में जेल गए? पूरे बिहार को पता है। पटना में कुख्यात अपराधी सरगना रीतलाल यादव परिषद का चुनाव लड़ रहा है। राजद का महासचिव है। लालू यादव अपनी बेटी मीसा के लिए लोकसभा चुनाव के समय समर्थन मांगने रीतलाल के घर गए थे। आज वहां से जद यू प्रत्याशी चुनाव लड़ रहा है। लेकिन लालू प्रसाद की इतनी ताकत नही रही कि वो युपीए प्रत्याशी का विरोध कर रहे अपने पार्टी के महासचिव रीतलाल के खिलाफ कोई कार्रवाई कर सके। श्री मोदी ने आगे कहा कि ऐसे नेताओं के बल पर बिहार में सुशासन आने का दावा नीतीश कुमार कर रहे है।

श्री मोदी ने जद यू के हाईटेक प्रचार पर चुटकी लेते हुए कहा कि नीतीश कुमार गुरुवार को भाजपा के गढ़ पटना सिटी में घरों में दस्तक देने गए थे। लेकिन वे वही गए जो उनके समर्थक थे। श्री मोदी के अनुसार इसके बावजूद जब घर की महिलाओं ने मुख्यमंत्री श्री कुमार से कई सवाल कर जबाव मांगना शुरु किया तो नीतीश कुमार के पास कहने के लिए कोई जबाव नही था। उन्होने कहा कि पटना में जब जद यू प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ बाबू को जनता ने पर्चा पर चर्चा कार्यक्रम के तहत घेरा। तब वशिष्ठ बाबू को जबाव देते नही बना। वशिष्ठ बाबू को जनता के सवालों ने भागने पर मजबूर कर दिया। श्री मोदी ने कहा कि जद यू के पास कार्यकर्ता है ही नही। भाजपा का मुकाबला कहां से जद यू करेगा। अब जनता जद यू को दस्तक देकर सवाल पूछेगी कि जबाव दो कि नालंदा एवं सीतामढ़ी में भीड़ पीट-पीटकर हत्या कर दे रही है। क्या यही सुशासन है? इस मौके पर सांसद हरि मांझी, विधायक प्रेम कुमार, श्यामदेव पासवान, वीरेन्द्र सिंह, सुरेन्द्र सिन्हा, अनिल कुमार, रामाधार सिंह, विधान पार्षद कृष्ण कुमार सिंह, राजेन्द्र प्रसाद गुप्ता, भाजपा प्रत्याशी अनुज कुमार सिंह सहित एनडीए के सभी जिलाध्यक्ष व कई नेता उपस्थित थे।


शिकायत सम्बंधित नया जरिया इस चुनाव आयोग में

आज अभी से निर्धारण आयोग अपने कामो में लग चूका है। बिहार में विधान परिषद के चुनाव का मतदान आरम्भ हो चूका है।
पंचायत कस्बो के ५३४ मतदान केन्द्रो पर आज १३ लाख मतदानकर्ताओ का जमावड़ा होना है। आज १५२ चुनाव प्रत्याशियों का फैसला जनता अपने मतदान के द्वारा करेगी। चुनाव आयोग ने कुछ पुख्ता इन्तेजाम किये है मतदान में किसी भी प्रकार की गड़बड़ी न हो उसको मद्देनज़र रखते हुए चुनाव आयोग हर चहल पर काबू पाने तथा उन पर नजर बनाए रखने के लिए मतदान प्रक्रिया की लाइव वेबकास्टिंग करा रहा है। अभी तक मतदान शांतिपूर्ण तरीके से हो रहा है। आगे भी इस प्रक्रिया को सँभालने रखने का प्रयास जारी है।
चुनाव आयोग के उप चुनाव अधिकारी आर लक्ष्मण जी ने बताया कि सभी मतदान केन्द्रों पर माइक्रो प्रेक्षकों की नियुक्ति की गई है। जो इन सारी तैयारियों का इंतेजाम देखेंगे। तकनिकी तरीके को भी साथ लेकर चलना अब समझदारी है, जो की चुनाव आयोग ने स्पष्ट तरीके से दिखाया है प्रत्येक विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र में तीन उडऩ दस्तों का भी गठन किया गया है।
मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी के कार्यालय में नियंत्रण कक्ष स्थापित किया गया है, जो मतदान समाप्त होने तक कार्य करेगा। यदि कोई चुनाव से जुड़ी शिकायत को दर्ज कराना चाहता है तो वह फोन नंबर 0612-2215978 पर संपर्क कर सकता है।
वह फैक्स नंबर 0612-2215611 पर भी फैक्स से अपनी शिकायत कर सकता है।
यह शिकायत सम्बंधित नया जरिया इस चुनाव आयोग में अच्छा बदलाव है।


21 विधान परिषद चुनाव के लिए सभी प्रशासनिक तैयारी पूरी

बांका। भागलपुर-बांका 21 विधान परिषद चुनाव के लिए सभी प्रशासनिक तैयारी पूरी कर ली गयी है। कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के सुबह आठ बजे से जिला के सभी 11 प्रखंड मुख्यालय में मतदान होगा। जिला के सांसद, विधायक, विधान पार्षद, 2956 त्रिस्तरीय पंचायत प्रतिनिधि मतदान करेंगे। इसके लिए जिला प्रशासन ने पर्याप्त पुलिस बल की तैनाती की है। सोमवार को डीएम साकेत कुमार व एसपी डा सत्य प्रकाश ने पुलिस अधिकारी सहित निर्वाचन कार्य में लगाए गये पदाधिकारी को स्पष्ट शब्दों में कह दिया कि गड़बड़ी करने वाले को कड़ी सबक सिखाएं। वहीं चुनाव क्षेत्र में धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लागू कर दी गयी है।

विधान पार्षद चुनाव को संपन्न कराने के लिए ग्यारह जोनल अधिकारी को तैनात किया गया है। साथ ही इन अधिकारी को सभी थाना के थानाध्यक्ष के साथ कोर्डिनेट कर पूरे चुनाव के दौरान कड़ी चौकसी रखने का निर्देश दिया गया है। साथ ही ग्यारह स्टैटिक व गश्ती दल को भी लगाया गया है।

चप्पे-चप्पे पर तैनात रहेगी पुलिस

एसपी डा सत्य प्रकाश ने सभी पुलिस अधिकारी को सख्त चेतावनी दी है कि शाम चार बजे तक पूरी कड़ी पहरेदारी रखें। उन्होंने कहा कि संदेह पर विशेष निगरानी रखें। उन्होंने बेलहर, कटोरिया व चांदन थानाध्यक्ष विशेष चौकसी बरतने की बात कही। एसपी डा सत्य प्रकाश ने एएसपी अभियान एल के पांडे को नक्सली क्षेत्र में लगातार गश्ती करने का निर्देश दिया है। जिससे त्रिस्तरीय पंचायत प्रतिनिधि आराम से अपने मतदान का प्रयोग कर सकें।

काम करेगा कंट्रोल रूम

मतदान संबंधी जानकारी के लिए जिला प्रशासन ने कंट्रोल रूम की स्थापना की है। जो चुनाव के दिन चालू रहेगा। किसी भी जानकारी के लिए मोबाइल नंबर 9471943974 व लैंड लाइन नंबर 222110 को चालू किया गया है।

धोरैया में सबसे अधिक मतदाता

एमएलसी चुनाव में सबसे अधिक मतदाता धोरैया प्रखंड में है। जबकि सबसे कम मतदाता फुल्लीडुमर प्रखंड में धोरैया में 338, बांका सदर 274, अमरपुर 320, फुल्लीडुमर 194, शंभूगंज 272, रजौन 300, बौंसी 273, बाराहाट 227, बेलहर 262, कटोरिया 262, चांदन 234

पैसे के लेनदेन पर रखें नजर

चुनाव को देखते हुए डीएम साकेत कुमार ने सभी अधिकारी को विशेष दिशा निर्देश देते हुए कहा कि पैसे के लेनदेन पर विशेष नजर रखें। उन्होंने बताया कि मतदाता को पैसे का भी लोभ दिया जा रहा है। विशेष तौर पर बड़े वाहनों की भी चेकिंग जरूरी है। जिससे की चुनाव में जरा भी व्यवधान ना होने पायें। बैठक में डीडीसी प्रदीप कुमार, एसडीओ अविनाश कुमार, डीसीएलआर ब्रजेश कुमार, डीपीआरओ आरके पोद्दार, डीटीओ मुकेश प्रसाद सहित , एसडीपीओ शशि शंकर कुमार, डीएसपी मुख्यालय पीएन उपाध्याय, टाउन थानाध्यक्ष एसएन सिंह सहित सभी बीडीओ, थानाध्यक्ष व निर्वाचन कार्य में लगाएं अधिकारी उपस्थित थे।


उत्तर बिहार के क्षेत्रों में चुनावी लहर के दौरान परिणामगत एनडीए का कद ऊँचा

उत्तर बिहार के क्षेत्रों में चुनावी दौर में विधान परिषद की सात सीटों के लिए पूर्णता हुई गणना के अनुसार चुनाव की मतगणना में सुरक्षा के कड़े इंतजाम के बीच मुजफ्फरपुर, समस्तीपुर, दरभंगा और पश्चिमी चंपारण के चुनावी नतीजे सर्वसाधारण रूप से घोषित कर दिए गए । गौरतलब है की देश में भाजपा की सरकार के अन्तगर्त होने की वजह से चुनाव में पुख्ता इन्तेजाम किये गए थे।
दोपहर तीन बजे तक की सूचनाओं के आधार पर , मुजफ्फरपुर में जदयू प्रत्याशी दिनेश 5093 मतों से चुनाव जीत गए हैं। और अलग स्थानो से आई रिपोर्ट क अनुसार , समस्तीपुर व दरभंगा में भाजपा के हरिनारायण चौधरी 1620 और सुनील कुमार सिंह 944 मतों से जीत गए। पश्चिमी चंपारण में कांग्रेस के राजेश राम 617 मत विजयी हुए। ऐसे हालत में भी किसी स्थान से कांग्रेस का जितना आश्चार्यजनित रहा है। आम इंसान को इस सच को स्वीकारना हजम नही हो पा रहा है। साथ ही साथ चंपारण से भाजपा के बबलू गुप्ता 153 मतों से जीत गए हैं। मधुबनी में भाजपा के सुमन महासेठ जीत गईं हैं। सात सीटों पर कुल 45 उम्मीदवार मैदान में थे।
पश्चिमी चंपारण में कांग्रेस के राजेश राम 617 मतों से जीत गए हैं। यहां से तीन उम्मीदवार मैदान मेंं थे।
पूर्वी चंपारण में भाजपा के बबलू गुप्ता 153 मतों से जीत गए हैं। यहां से चार उम्मीदवार मैदान में थे।
मुजफ्फरपुर से जदयू-राजद गठबंधन के प्रत्याशी दिनेश सिंह 5093 मतों से विजयी। उन्होंने अपने निकट प्रतिद्वंद्वी प्रियदर्शिनी साही को पराजित किया। शाही को मात्र 368 मत मिले। कुल 6201 मत डाले गए थे। इनमें 5933 मत वैध मिले। यहां से छह उम्मीदवार चुनाव लड़ रहे थे। मधुबनी में भाजपा की सुमन महासेठ ने अपनी जीत दर्ज की । यहां से सर्वाधिक 11 प्रत्याशी मैदान में थे।
दरभंगा से भाजपा प्रत्याशी सुनील कुमार 944 वोट से जीत गए। उन्होंने राजद के मिश्री लाल यादव को पहले चरण की मतगणना में प्रथम वरीयता वोटों की गिनती में ही शिकस्त दे दी। भाजपा प्रत्याशी सुनील को 2536 व राजद प्रत्याशी मिश्री लाल को 1592 वोट मिले। कुल 5338 में 4920 वोट पड़े थे। यहां से 10 प्रत्याशी मैदान में थे।
समस्तीपुर से भाजपा के हरिनारायण चौधरी ने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी राजद की रोमा भारती को 1620 मतों से पराजित कर दिया। हरिनारायण चौधरी को 2794 मत मिले। जबकि, रोमा भारती को 1174 मत प्राप्त हुए। कुल पड़े 5884 मतों में 5140 मत वैध मिले। 716 मत रद हो गए।
निर्दलीय राजीव रंजन को 382, वामपंथी प्रत्याशी नीलम देवी को 273, सुनीता सिंह को 237, राजेन्द्र साह को 232, श्वेता यादव को 48 मत मिले। यहां से सात उम्मीदवार मैदान में थे।


बिहार की राजनीति में नाकामयाब होतीं महिलाएं

राजनीति के क्षितिज पर किस्मत आजमाने में महिलाएं भी पुरुषों से कम नहीं हैं। पार्टी से टिकट न मिलने पर अपने बलबूते ही चुनाव मैदान में उतरने से परहेज नहीं करती। यह बात अलग है कि चुनाव में वे अपनी चमक बिखेरने में कामयाब न हो सकीं। प्रदेश में महिला मतदाताओं की संख्या करीब 5.5 करोड़ है, जो पुरुष मतदाताओं से कुछ ही कम है। इतनी बड़ी आबादी पर तमाम राजनीतिक दलों की नजर रहती है और इनलोगों को अपनी तरफ करने की तरह-तरह की कोशिशें की जाती हैं। हर दल महिला प्रकोष्ठ का गठन कर सभी पदों पर महिलाओं को विराजमान कर देता है। लेकिन, दल के दूसरे प्रकोष्ठ या सेल के वरीय पदों पर शायद ही किसी महिला को मनोनीत किया जाता हो। राजनीतिक दलों के बीच महिलाओं का सबसे बड़ा हिमायती होने की होड़ लगी रहती है। जब किसी महिला पर अत्याचार होता है तो सभी दल सड़क पर निकल कर धरना-प्रदर्शन करने में पीछे नहीं रहते। साथ ही मौका मिलने पर महिलाओं को अधिकार दिलाने की बड़ी-बड़ी बात करने में भी संकोच नहीं करते। लेकिन, महिलाओं का सबसे बड़ा हिमायती होने का दावा करने वाले दल विधानसभा चुनाव के वक्त उन्हें टिकट देने के मामले में दिलेरी नहीं दिखा पाते हैं। इस विधानसभा पर गौर करने से महिलाओं के प्रति दलों की दिलेरी का पता चल जाता है। 142 सीटों पर चुनाव लडऩे वाली जदयू ने सिर्फ 24 महिलाओं को ही टिकट के योग्य समझा। इसी तरह भाजपा ने 101 के विरुद्ध मात्र 11 महिलाओं को ही अपना उम्मीदवार बनाया। शेष दलों की स्थिति भी कमोबेश ऐसी ही रही। राजद ने छह, लोजपा ने सात, सीपीआइ ने तीन, सीपीआइ (एम) ने दो, सीपीआइ (एमएल) ने 11 महिलाओं को चुनाव मैदान में उतारा। ऐसा नहीं कि राजनीतिक दलों द्वारा मौका न दिए जाने पर महिलाएं खामोश होकर बैठ गयीं। राजनीतिक दलों के व्यवहार से क्षुब्ध महिलाओं ने निर्दलीय ही चुनाव मैदान में चुनौती दे दी। कुछ तो पार्टी उम्मीदवार के खिलाफ ही मैदान में उतर गयीं। महिलाओं के आक्रामक रूख से पार्टी के उम्मीदवार भी सहम गये। पिछले विधानसभा चुनाव में भाग्य आजमाने को निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर 158 महिलाएं खड़ी हुईं। सबको उम्मीद थी कि कम से कम से कम पांच- छह सीटों पर निश्चय ही फतह हासिल होगी, लेकिन ऐसा कुछ न हुआ और पार्टी प्रत्याशी के सामने निर्दलीय महिला प्रत्याशी टिक नहीं सकीं। इस मामले में डेहरी सीट से चुनाव मैदान में उतरीं ज्योति रश्मि भाग्यशाली रहीं। उन्होंने यहां से फतह हासिल की। अधिकांश निर्दलीय महिला प्रत्याशी अपनी जमानत तक बचा पाने में कामयाब न हो सकीं।


चुनाव में जीत के लिए संघर्ष और कड़ी तैयारी

चुनाव में जीत के लिए संघर्ष और कड़ी तैयारी के साथ साथ सियासी दाव पेच बहुत बड़े फैक्टर माने जाते हैं, किंतु हार के लिए कभी कभी किस्मत को भी जिम्मेवार ठहरा दिया जाता है जो की जायज नही कही न कही यह गलतियों का नतीजा होता है । सियासी दौर में किसी सीट पर कोई प्रत्याशी मामूली वोटों से जीत जाता है तो कोई महज कुछ वोट से पीछे छूट जाता है। नतीजा आने के बाद अक्सर पछतावा होता है कि थोड़ा जोर और लगा लिए होते तो शायद यह हाल नहीं होता। 2010 के विधानसभा चुनाव के नतीजों को आज के हालात में देखें तो कई तस्वीरें उभरती हैं।साथ ही साथ महजा कुछ बारीकियां तब से अब तक के अंतर को भी हैं।
बिहार विधानसभा की 243 में से 92 सीटों पर जीत-हार का अंतर 10 हजार से भी कम वोटों का रहा था। मतलब साफ है कि यहां मुकाबला कड़ा था। 12 प्रत्याशी तो एक हजार से भी कम के अंतर से हार गए थे। तीन हजार से कम वोटों से हारने वालों की संख्या भी 20 थी।
राजनीति में हमेशा दो और दो चार नहीं होता है। मुकम्मल तैयारी हुई तो इस बार इस अंतर को पाटा भी जा सकता है। ऐसे में सभी के लिए ये सीटें मायने रखेंगी, क्योंकि गठबंधन की राजनीति ने चुनावी समीकरणों को गड्डमड्ड कर दिया है। फिर भी वक्त के साथ अभी कई दौर आने हैं। हवा बन भी सकती है और बदल भी सकती है। नतीजे ही बता सकते हैं किसने कितनी लहर पैदा की और किसके पक्ष में आवाम का झुकाव हुआ। फिर भी पूर्व के परिणामों के नमूने कड़े संघर्ष की ओर संकेत तो कर ही रहे हैं।
पिछले विधानसभा चुनाव में सबसे बड़े दुर्भाग्यशाली केवटी के राजद प्रत्याशी फराज फातमी को माना जा सकता है, जो महज 29 वोटों से भाजपा के अशोक यादव से पीछे रह गए थे। चकाई से झारखंड मुक्ति मोर्चा का बिहार में खाता खोलने वाले सुमित कुमार सिंह भी महज 188 वोटों के अंतर से सिकंदर बने थे। हारने वाले लोजपा प्रत्याशी विजय कुमार थे।
किशनगंज के कड़े मुकाबले में भाजपा प्रत्याशी स्वीटी सिंह महज 264 वोटों से कांग्र्रेस के मो. जावेद से हार गई थीं। इसी तरह बिहपुर में राजद के बुलो मंडल 465 वोटों से भाजपा के शैलेंद्र कुमार से पीछे रह गए थे। हालांकि, वह बाद में सांसद बन गए। भभुआ में भाजपा के आनंद भूषण पांडे महज 447 वोटों से लोजपा के प्रमोद कुमार सिंह से हार गए थे।
प्राणपुर में एनसीपी की इशरत परवीन 516 वोटों से भाजपा के विनोद सिंह से पीछे रह गईं थीं। मधुबनी में राजद के नैयर आजम को मात्र 588 वोट और मिल जाते उनकी नैया पार हो जाती। भाजपा के रामदेव महतो आज विधायक नहीं होते। बहादुरपुर में राजद के हरिनंदन यादव 643 वोटों से विधायक बनने से चूक गए। जदयू के मदन सहनी ने उन्हें परास्त कर दिया। गोह से जदयू के रणविजय सिंह ने महज 694 वोटों से राजद के राम अयोध्या प्रसाद को पछाड़ा था।
ढाका में जदयू के फैसल रहमान के पक्ष में सिर्फ 712 वोटरों का फैसला और आ जाता तो निर्दलीय पवन कुमार जायसवाल की किस्मत नहीं चमकती। परबत्ता में जदयू के रामानंद प्रसाद सिंह मात्र 808 वोटों से राजद के सम्राट चौधरी से पीछे रह गए थे। ओबरा में निर्दलीय सोमप्रकाश ने रॉबिन हुड स्टाइल में अपनी किस्मत लिखी थी। दरोगा की नौकरी से इस्तीफा देकर सियासी समर में उतरे और 802 वोटों से जदयू के प्रमोद चंद्रवंशी को विधायक नहीं बनने दिया।
तब कुछ बड़े नेताओं की किस्मत भी जीत के करीब आकर दगा दे गई थी। कांग्र्रेस के अशोक चौधरी बरबीघा में जदयू के गजानंद शाही से महज 3047 वोट से हार गए थे। हालांकि बाद में चौधरी विधान पार्षद बन गए। पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी भी मखदुमपुर सीट से 5085 वोट से जीत सके थे। उन्होंने राजद के धर्मराज पासवान को हराया था।
विधानसभा अध्यक्ष उदय नारायण चौधरी भी इमामगंज में कड़े संघर्ष में पड़ गए थे। राजद के रौशन कुमार को उन्होंने सिर्फ 1211 वोटों से परास्त किया था।


विधान परिषद के चुनावो के बाद आज से गिनती की सुरुवात

चुनाव का पुलिंदों के साथ स्थानीय नियत कोटे के अन्तगर्त से विधान परिषद की 24 सीटों के लिए मतगणना का कार्य सुबह आठ बजे से प्रारंभ हो गया है। बहुंत जिलों में बनाए गए मतगणना केंद्रों के अनुसार हर तरह की कड़ी सुरक्षा के बीच मतों की गिनती का काम जारी है।
सुरुवात का अनुसार सात जुलाई को वोटिंग हुई थी। स्थानीय प्राधिकार तथा कार्यकर्ताओ समस्त सहायक से जुड़े तकरीबन 1.38 लाख मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया तथा मतदान दिया । विधान परिषद चुनाव के नतीजों जिस आधार पर आधारित है वो है वह का निर्धारित भविस्य जो राजनीतिक दल बिहार विधानसभा के आगामी चुनावों से जोड़कर हम एख रहे है और समझ रहे है।
राष्ट्रीय लोक समता पार्टी की ओर से दो प्रत्याशी चुनाव मैदान में थे ,भाजपा ने 18 उम्मीदवारों को चुनाव मैदान में उतारा था, जबकि लोक जनशक्ति पार्टी की ओर से चार। इसी प्रकार जनता दल (यूनाइटेड) और राष्ट्रीय जनता दल ने दस-दस प्रत्याशी खड़े किए थे, जबकि चार अन्य सीट पर इस गठबंधन की सहयोगी, कांग्रेस और एनसीपी के प्रत्याशी मैदान में थे। चुनाव के लिए राज्य भर में बनाए गए 534 मतदान केंद्रों पर मतदाताओं ने वोट डाले थे।
इस चुनावी लहर में मान्यता का साधार और आधार निर्धारण का न्यूनतम बिंदु है। अमूमन सभी दलों का मानना है कि परिषद चुनाव के नतीजे कई मायने में दलों के प्रति आम आदमी का रूझान बताएंगे। आम आदमी के रुझान से तात्पर्य यह है की आखिर जनता चाहती क्या है चुने हुए प्रतयाशी के अनुसार प्रगति से सम्बंधित नियत इस चुनाव में भाजपा, जदयू, राजद, कांग्रेस, लोजपा, एनसीपी और रालोसपा की ओर से उम्मीदवार खड़े किए गए थे। इसके अलावा बड़ी संख्या में निर्दलीय प्रत्याशियों ने भी चुनाव में भाग लिया है।


‪बेगुसराय‬ में श्री उपेन्द्र कुशवाह जी के नेतृत्व में कार्यकर्ता सम्मलेन

आज बिहार के;में श्री उपेन्द्र कुशवाह जी के नेतृत्व में कार्यकर्ता सम्मलेन बहुत सफल और प्रेरणादायक रही । बिहारमें आज का कार्यकर्ता सम्मलेन और उमड़ी भीड़ माननीय मंत्री उपेन्द्र कुशवाहा जी की उपस्तिथि में जोरदार रही ।

कार्यकर्ताओं का उत्साह और जोश आज देखने लायक था ।

यह कहना आस्चर्यचकित नही है की बिहार का एक एक कोना अपनी विशाल स्मृति तथा इतिहास के साथ वर्णित है।बिहार राज्य का सर्व चर्चित जिला है बेगुसराय जो की बिहार के मध्य में स्थित है। 1870 ईस्वी में यह सर्वप्रथम मुंगेर जिले के सब-डिवीजन के रूप में स्पष्ट रूप से समक्ष आया और फिर स्थापना प्राप्ति हुई । 1972 में बेगूसराय स्वतंत्र जिला बना कर घोसित किया गया ।इसका चौखुटा धरातल कुछ इस प्रकार है की इसके उत्तर में समस्तीपुर, दक्षिण में गंगा नदी और लक्खीसराय, पूरब में खगडिया और मुंगेर तथा पश्चिम में समस्तीपुर और पटना जिले हैं।

दिनांक 12 जुलाई 2015 को यह रालोसपा द्वारा कार्यचलित कार्यकर्ता सम्मलेन किया गया। जो की विधान सभा के चुनावी लहर पर आधारित था। इसका मुख्या सम्मोहन खुद माननीय उपेन्द्र कुशवाहा जी थे।
इस बैठक तथा सभा का मुख्य उद्देश्य जनता सम्बोन्धित करना तथा रालोसपा का आधार स्पष्ट करना था। ताकि इस चुनावी लहर में हम उनके कार्यो को करने की लिए अग्रसर और प्रथम क्ष्रेणि में है।


Stage set for Navnirman Rally

Estranged JD(U) leader Upendra Singh Kushwaha visitedGandhiMaidan to inspect the preparations for hisBiharNavnirman Rally inPatnaon March 2, 2013.


Girls ITI Inaugurated for God’s Glory, to Give Girls Livelihood Skills

GEMS Girls ITI was inaugurated on 23rd Aug 2014. The inauguration service was led by Bro. Augustine Jebakumar andShri Upendra Kushwaha, Minister of State for Rural Development & Panchayat Raj, Govt. of India cut the ribbon and openedthe ITI building. The inaugural ceremony started with the arrival of the Hon’ble Minister Shri Upendra Kushwaha who was welcomed by Mrs. Rupalekha Jebakumar.Bro. D. Augustine Jebakumar welcomed all the guests and began the service with songs praising the Almighty God and he was joined by Dr. Ashok Kumar (Director of Missions) and Mr. A.P. Jeyaseelan (Principal, Girls ITI), students, staff & missionaries.
After the praise and worship, the Minister cut the ribbon and inaugurated the ITI. Then he was taken around the Campus and he interacted with the Staff & Students of GEMS English School, Dayasagar, GEMS School of Nursing & Hindi Medium School. The inauguration ceremony was held at the Auditorium which began with a word of prayer by Dr. Ashok Kumar and the programs were anchored by the Senior students of GEMS English School, Sikaria.
The Chief Guest and all the other guests were welcomed by Br. Rakesh Kumar (DCC/SAC Coordinator), Br. Anandan (Zonal Superintendent, B2 Zone) and Br. Daniel Murugan (Principal, ITI-Karwandiya).Choreography was staged by the students of GEMS English School. Followed which School of Nursing students presented a Dance Drama showing the difference between selfish & selfless service of the health sector.Bro. D. Augustine Jebakumar shared about the vision with which the Lord Jesus Christ brought him to Bihar and thanked God for His leading all these years. He also pointed out to the change that which is needed in the areas of valuingSamay(time),Sakshartha(literacy),Safayi(cleanliness),Sachayi(truth) andSukhi Jeevan(joyful life). He went on to show how the Lord Jesus has enabled GEMS to value & inspire these in the lives of students and people through all of its initiatives.

Exhibiting the love of God the girls of Dayasagar presented a choreography.The Chief Guest Shri Upendra Kushwaha addressed the students and all the participants. He laid stress on the importance of teaching moral values to the students, not only focusing on academic excellence and saying so appreciated the work of GEMS for already working in this direction.
Mr. A.P. Jeyaseelan, the Principal of Girls ITI thanked the Chief Guest, all the participants, the leadership of GEMS and the staff & students of all institutions and above all the Almighty God for His grace in enabling this ceremony. He also thanked those who contributed to the ITI’s establishment. The program came to an end with closing prayer by Br. T. Emerson (Central Regional Director).
The Chief Guest and all the dignitaries & guests were served lunch. GEMS Girls ITI trains girls in the two year course of Civil Draughtsman and one year course of Sewing Technology. Admissions for this academic year is going on and will close by 15th Sep 2014Pray for the Girls ITI that through this initiative the live of girls of Bihar and other north Indian States may improve and that ‘strength and honour may be their clothing and they may rejoice in times to come’ (Proverbs 31:25).


यहाँ से हुई थी सुरुवात इस पार्टी की सदस्यता लेने की।

Mahatma Phule Samta Parishad launches membership drive Mahatma Phule Samta Parishad launched its membership drive at Panchayat Parishad Bhavan in Patna on March 27, 2011. Rajya Sabha member Upendra Kushwaha inaugurated the function.


Upendra Kushwaha hands over a pension certificate to a beneficiary.

Ranchi/Jamshedpur, Sept. 30.2014

Union minister of state for rural development Upendra Kushwahaand his Jharkhand counterpart K.N. Tripathy today jointly launched the Centre’s Minimum Guarantee Pension Scheme under the Employees Pension Scheme (EPS), 1995, in Ranchi — a move that will benefit lakhs of employees working in the organised sector comprising both public and private firms.

Union minister of state for social justice and empowerment Sudarshan Bhagat did the honours in Sakchi, Jamshedpur, dedicating to the common people the scheme that was rolled out across the country simultaneously.

Speaking on the occasion at Thakur Vishwanath Shahdeo Indoor Stadium at the mega sports complex, Ranchi, Kushwaha termed the new guaranteed pension scheme — envisaged by the previous UPA government — a game-changer.“From now on, every pensioner will receive a minimum of Rs 1,000 per month. The previous minimum pension of Rs 250 was like humiliating a pensioner,” he noted.

“This apart, mandatory wage ceiling for contribution to the EPS has been upped from Rs 6,500 to Rs 15,000 per month and roughly 50 lakh people will be covered under the scheme. In coming days, we will work out many such social security schemes,” he added.

Nationally, about 19 lakh pensioners used to get anywhere between Rs 500 and Rs 1,000. This apart, around 13 lakh people used to get less than Rs 500.

In Jharkhand, it will benefit about 63,690 out of total 1.15 lakh pensioners who used to get Rs 500 or below.

Jharkhand minister Tripathy also hailed the scheme and promised all possible support from the state its success.

Tripathy also used the stage to spew venom on the Centre for slashing Jharkhand’s labour budget by almost 50 per cent, a move that, according to the minister, will undermine several welfare schemes.

The minister accused the Narendra Modi government of keeping the state in the dark about the decision to reduce the budgetary allocation from Rs 1,600 crore to about Rs 750 crore.

“It’s true that a large amount of central funds lapsed unused in the past but the present state government is determined to make use of every single penny meant for welfare and development of the poor,” Tripathy claimed.

Kushwaha, however, chose not to counter the allegations “on-stage”, but off it, he dismissed the charges as “petty politics” and “baseless”.

“Manch pe aarop lagane se kuch nai hota. Agar dikkat ya koi shikayat hai toh baton se suljhaya ja sakta hai. (Only levelling allegations on such platforms will do no good. If he (state government) has any grievances, it can be solved through talks. The central government has made it very clear from Day 1 that every state is important for overall development of the country,” said Kushwaha.


Funds boost to build BPL scheme houses

Patna, Sept. 18:Union minister of state for rural development Upendra Kushwaha today announced the hike of at least Rs 45,000 as financial assistance to the beneficiaries for constructing houses under Indira Awas Yojana (IAY).

As per the proposal sent to the finance ministry for its approval, each Indira Awas beneficiary would now Rs 1.15 lakh as unit cost against Rs 70,000 while beneficiaries residing in hilly or Maoist-hit districts or difficult areas would get Rs 1.25 lakh per unit cost against Rs 75,000.

“The rural development ministry has sent its proposal to the finance ministry for effecting a major hike in the quantum of financial assistance for constructing houses under the IAY for BPL families. The ministry is expected to give its nod very soon,” Kushwaha told reporters here.

It has been found that the amount available (Rs 70,000 per unit cost) for constructing houses under Indira Awas Yojana was insufficient and was quite difficult to construct houses in the prescribed limit, so the government decided to effect a hike in the amount, said Kushwaha who was accompanied by party spokesmen Abhayanand Suman and Rajesh Yadav at state guesthouse here.

But till the proposal is given nod, the ministry has decided to give Rs 15,000 to each beneficiary as labour cost, the minister said while adding that each beneficiary also gets Rs 10,000 for constructing toilet. The government has an ambitious target of constructing three crores dwellings in the country in next seven years at an estimated cost of Rs 2.50 lakh crore, he said.

Kushwaha, who is also the minister of state for the panchayati raj and drinking water and sanitation, said that Prime Minister has resolved to provide house for all in next seven years.


बिहार में हो रहे दंगल राज का : उपेन्द्र कुशवाहा द्वारा कटाक्ष।

राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष औरकेंद्रीयमानव संसाधन विकास राज्य मंत्रीउपेन्द्र कुशवाहापूर्णियांसर्किट हाउस मेंनेएकसंवाददातासम्मलेनके दौरान कहा किबिहार में दंगल राज है और कानून व्यवस्था को ताख पररखकर राज कर रहेनीतीशकुमार आम जनता को तोठग ही रहे थे,अब किसानो कोभी नहीं छोड़ रहे है.किसानोंको बरगलाने का काम कर रहे है.जोकिदेशहितमें ठीक नहीं है।
श्री कुशवाहा ने कहा किमोदी सरकार किसानों केदर्द को समझते है,और देश काविकासकैसे हो इसपर विशेष ध्यान है.5अप्रैल को पटना के गांधी मैदान मेंकिसान नव जवानरैली का आयोजन किया गया है जिसमे सभी जिलों के किसानशिरकतकरेंगे।
श्री कुशवाहा ने पूर्णियांमेंखादकी समस्या को लेकरनीतीशकुमार को जिम्मेवार बताया और केंद्रीय विद्यालयकी समस्या पर पत्रकारों द्वारा पूछे गए सवालों के जवाब में बतायाकिजल्दही दुरुस्त करलिया जाएगा,राशि की कमी नहीं है।
इससे पूर्व सहरसा से पूर्णियां आने के क्रम में मधेपुरा में श्री कुशवाहा का मधेपुरा जिला रालोसपा अध्यक्ष राजीव जोशी, अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के प्रदेश महासचिव मो इफ्तेखार आलम, वि०वि० छात्र अध्यक्ष अभिषेक कुशवाहा समेत कई दर्जन नेताओं और कार्यकर्ताओं ने स्वागत किया. मधेपुरा में श्री कुशवाहा ने सबों को रैली में आने का न्यौता देते हुए कहा कि बिहार में नीतीश और लालू की नैया डूबने ही वाली है।


Shri Upendra Kushwaha :ग्रामीण विकास राज्य मंत्री,पंचायती राज राज्य मंत्री,पेयजल और स्वच्छता राज्य मंत्री !

ग्रामीण क्षेत्रों में अधिकांश विकास एवं कल्याण संबंधी कार्यकलापों का नोडल मंत्रालय होने के नाते, ग्रामीण विकास मंत्रालय देश के समग्र विकास की रणनीति में प्रमुख भूमिका निभाता है। मंत्रालय का विजन तथा मिशन टिकाऊ है। ग्रामीण भारत में विकास में तेजी लाने के लिए बुनियादी ढांचा तैयार करने और ग्रामीण जीवन स्तर को बेहतर बनाने के उद्देश्य से आजीविका अवसरों में बढ़ोतरी के साथ-साथ बहुआयामी रणनीति के द्वारा गरीबी का उन्मूलन कर, सामाजिक सुरक्षा उपलब्ध कर, विकासात्मक विसंगतियों को सुलझाकर तथा समाज के अति दुर्बल वर्गों तक ग्रामीण क्षेत्र विकास को प्राथमिकता देकर ग्रामीण भारत का विकास सुनिश्चित किया गया है।

ग्रामीण विकास मंत्रालय के अंतर्गत दो विभाग हैं

(i) ग्रामीण विकास विभाग और

(ii) भूमि संसाधन विभाग।

मुख्य तौर पर मंत्रालय के उद्देश्यव इस प्रकार हैं:

  • महिलाओं तथा अन्य अति दुर्बल वर्गों के साथ-साथ जरूरतमंदों को आजीविका के लिए रोजगार अवसर तथा गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन कर रहे परिवारों (बीपीएल) को खाद्य सुरक्षा उपलब्ध करना।

  • प्रत्येक परिवार को, प्रत्येक वित्त वर्ष में, कम से कम 100 दिनों का गारंटीयुक्त मजदूरी रोजगार प्रदान कर ग्रामीण क्षेत्रों के परिवारों को संवर्धित आजीविका सुरक्षा सुनिश्चित करना।

  • सड़क मार्गों से नहीं जुड़ी ग्रामीण बसावटों के लिए बारहमासी ग्रामीण सड़क-संपर्क का प्रावधान और मौजूदा सड़कों के उन्नयन करके बाजार तक पहुंच उपलब्ध कराना।

  • ग्रामीण क्षेत्रों में बीपीएल परिवारों को मूल आवास और वासभूमि की उपलब्धता कराना।

  • वृद्धजनों, विधवाओं तथा विकलांग व्यक्तियों को सामाजिक सहायता उपलब्ध करना।

  • जीवन स्तर के सुधार हेतु ग्रामीण क्षेत्रों में शहरी सुविधाएं उपलब्ध करना।

  • ग्रामीण विकास कार्यकर्ताओं का क्षमता निर्माण करना तथा उन्हें प्रशिक्षण देना।

  • ग्रामीण विकास के लिए स्वैच्छिक एजेंसियों तथा वैयक्तिकों की भागीदारी का प्रोन्नयन करना।

  • भूमि की खोई अथवा जर्जर उत्पादकता की पुनर्प्राप्ति करना। इसे वाटरशैड विकास कार्यक्रमों तथा भूमिहीन ग्रामीण निर्धनों को भूमि उपलब्ध करने के लिए प्रभावी भूमि संबंधी उपायों की पहल के माध्यम से किया जाता है।

ग्रामीण विकास का अभिप्राय एक ओर जहां लोगों का बेहतर आर्थिक विकास करना है वहीं दूसरी ओर वृहत सामाजिक कायाकल्प करना भी है। ग्रामीण लोगों को आर्थिक विकास की बेहतर संभावनाएं मुहैया कराने के उद्देश्या से ग्रामीण विकास कार्यक्रमों में लोगों की उत्तरोत्तर भागीदारी सुनिश्चिहत करने, योजना का विकेन्द्रीकरण करने, भूमि सुधार को बेहतर ढ़ंग से लागू करना और ऋण प्राप्ति का दायरा बढ़ाने का प्रावधान किया गया है।

प्रारम्भ में कृषि उद्योग, संचार, शिक्षा, स्वास्थ्य तथा इससे संबंधित क्षेत्रों के विकास पर मुख्य बल दिया गया था लेकिन बाद में यह महसूस किया गया कि त्वरित विकास केवल तभी संभव हो सकता है जब सरकारी प्रयासों में बुनियादी स्तर पर लोगों की प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से भागीदारी हो।


BJP Leader Syed Shahnawaz Hussain, Union Minister Of State For Rural Development, Panchayati Raj, Drinking Water And Sanitation Upendra Kushwaha, LJP Leader Chirag Paswan, LJP Chief And Union Minister For Consumer Affairs, Food And Public Distribution Ram

BJP leader Syed Shahnawaz Hussain, Union Minister of State for Rural Development, Panchayati Raj, Drinking Water and Sanitation Upendra Kushwaha, LJP leader Chirag Paswan, LJP chief and Union Minister for Consumer Affairs, Food and Public Distribution Ramvilas Paswan, BJP leader Sushil Kumar Modi during an iftar party hosted by Ramvilas Paswan in Patna.


Upendra Kushwaha addresses a press conference in Patna

यह एकाग्रता ही एक सही मुकाम कायम कर सकती है!

Union Minister of State for Rural Development Upendra Kushwaha addresses a press conference in Patna on Sept 11, 2014.


एक और सजग प्रयास था देश को स्वच्छ बनाने का।

एक और सजग प्रयास था देश को स्वच्छ बनाने का।


Upendra Kushwaha and others clean the bank of Ganga river at Gandhi Ghat ahead of Chhath Puja, in Patna Primary tabs View(active tab) Edit

Patna: The Union MoS for Rural Development and Rashtriya Lok Samata Party Chief Upendra Kushwaha and others clean the bank of Ganga river at Gandhi Ghat ahead of Chhath Puja, in Patna on Oct.25, 2014. With Chhath Puja to be celebrated from Oct 27-29, the Indian Railways is making extra efforts to accommodate the hundreds of people heading home for the festival and ran an extra train to Patna Friday, said officials.


Upendra Kushwaha addresses a press conference in Patna

Union Minister of State for Rural Development Upendra Kushwaha addresses a press conference in Patna on Sept 11, 2014. (Photo: IANS)


Union minister of state Upendra Kushwaha (second from right) with DPS School principal Hemlata S Mohan (second from left) in Bokaro on Thursday.

Union minister of state for human resource development Upendra Kushwaha on Thursday announced that Indian School of Mines (ISM), Dhanbad, would soon get the much-awaited IIT status and underlined the Centre's commitment towards improving overall standard of education in Jharkhand.

"ISM deserves to get an IIT status. I also support this demand. There is no if or but on this issue," said Kushwaha, who was in Bokaro steel city to attend the 27th annual sports day of DPS School.

Stressing on the need for more quality higher education institutions in the state, the Union minister said the lack of good cradles for higher studies had been driving students out of Jharkhand.

"Jharkhand is one of the most underdeveloped states in the country and its situation is no better in the field of education. There are very few quality higher education institutes, including engineering and medical. After completing the plus-II, students move to others states in search of better colleges and universities, creating a manpower crunch in Jharkhand," Kushwaha said while talking toThe Telegraph.

Asked if the Centre had any special plan to provide the much-need impetus to the education sector in Jharkhand, the HRD minister pointed out that it was for the state government, led by Raghubar Das, to prepare proposals for setting up quality higher educational institutes and send them to the central government.

"I will personally see to it thatfeasibleproposals are accepted without wasting any time. I promise all help from the Centre but the stategovernmentwill have to take initiative for the benefit of the people of Jharkhand," he added.

Showering praises on DPS school, Kushwaha said the cradle was seriously implementing all central government programmes - be it empowering women through skill development training, providing free education to poor children or Clean Indian Mission.

"Prime minister Narendra Modi wants that no one remains illiterate.Every child has gotthe merit but if one does not get an opportunity to study,how can he succeed," he added.


Shri Upendra Kushwaha at Acharyakulam

Shri Upendra Kushwaha, the minister of State for Rural Development, Panchayati Raj, Drinking water and Sanitation in Government of India visited Acharyakulam on 4th Oct, 2014. He attended hawan early in the morning and interacted with the students.

In his short speech he blessed the children who are studying here under the divine blessings of Param Pujya Swamiji and Shraddhey Acharyashri.

राज तिलक हुआ हैं हमारा ,,, हमारे देश के यूवा भविस्य के हाथो। …यह राजतिलक नही सौभाग्य है। बिहार को कुछ देने का कुछ करने का। तात्पर्य सिर्फ और सिर्फ : विकास।


About party

The Rashtriya Lok Samata Party (English: National People's Equality Party; abbreviated as RLSP) is a political partyin the Indian State Bihar, founded on 3 March 2013. It had previously existed as the Rashtriya Samta Party, established in 2009 by Upendra Kushwaha and Rambihari Singh, and was relaunched as the Rashtriya Lok Samta Party by Kushwaha
RLSP offered a delivery in terms of concrete results if voted to power and ensure economic development of Bihar and welfare of its people
On 23 February 2014, the RLSP entered into an alliance with the Bharatiya Janata Party led National Democratic Alliance. As per the alliance, the RLSP contested three seats from Bihar for 2014 General Elections content_imagely Sitamarhi, Karakat and Jahanabad. The party won all three seats as it rode the Modi wave which swept the 2014 Lok Sabha General Elections

Upendra Kushwaha Announces Formation of RLSP

04 MARCH 2013

The announcement came at a rally by Kushwaha's former party Bihar Navnirman Manch that he formed a few years ago after parting ways from Nitish Kumar, at Gandhi Maidan in Patna
"Our party is going to give some serious contention to the JD-U that, in alliance with the Bharatiya Janata Party (BJP), has failed to show any result that was expected from it," Kushwaha said
Unloading on the current government, the off again, on again supporter of Nitish Kumar, said that the law and order under the current administration had gone from bad to worse and the entire state was in the clutches of corrupt bureaucrats and the high-handedness of the police department
This is not the first time Kushwaha has formed a new party after being marginalized by the Chief Minister. In 2009, he formed a party with the same content_image sans 'Lok' called Rashtriya Samata Party. However, within months, he dissolved the party only to once again join the Janata Dal – U to remain with Nitish Kumar
The Bharatiya Janata Party on Sunday announced an alliance with prominent OBC (Other Backward Class) leader Upendra Kushwaha’s political outfit Rashtriya Lok Samata Party (RLSP) in Bihar
State BJP president Mangal Pandey said the RLSP will be a new arm of the National Democratic Alliance (NDA) and will contest three seats in Bihar
Mr. Kushwaha, who belongs to the OBC Koeri caste, quit the ruling Janata Dal (United) and resigned as its Rajya Sabha MP, in December 2012, following differences with Bihar Chief Minister Nitish Kumar. The OBC and EBC (Extremely Backward Class) form a key vote base of Mr. Kumar’s JD (U)
Mr. Kushwaha floated the RLSP in March 2013, before the JD (U)-BJP split. At the time of launching his party in Patna, he had said that his party would work towards ousting the NDA from Bihar
On Sunday, however, he cited Gujarat CM and BJP’s CM candidate Narendra Modi’s vision for farmers and labourers as the reason for joining the BJP. “We stand for social justice. This is the first time an OBC person [Mr. Modi] is close to becoming the PM.”

The BJP and RLSP will together contest 40 Lok Sabha seats in Bihar, their leaders have said. Mr. Kushwaha will also support the BJP’s ‘rail roko’ campaign on the issue of special status
The BJP said there was no decision yet on which three seats the RLSP would be contesting
Patna: A month after quitting the Rajya Sabha seat as well as the Janata Dal (United)'s primary membership, senior leader Upendra Kushwaha on Sunday launched political party the Rashtriya Lok Samata Party with a pledge to oust the NDA government in Bihar
Kushwaha unveiled the content_image and flag of his party at an impressive rally at the historic Gandhi Maidan. Apparently eyeing the support of minorities and the Most Backward Castes (MBCs) for revival of his fledgling political career, the RLSP founding leader lambasted both Chief Minister Nitish Kumar and RJD supremo Lalu Prasad for "be-fooling the people of Bihar for over two decades with one false promise or another"


"We will deliver in terms of concrete results if voted to power and ensure economic development of Bihar and welfare of its people," Kushwaha said
BJP firms up alliance with RLSP for general elections

Sunday, 23 February 2014 - 5:39pm IST | Place: Ahmedabad | Agency: PTI

BJP and Rashtriya Lok Samata Party (RLSP) today announced a pre-poll alliance for the general elections under the NDA's banner, with the two parties contesting 37 and three seats, respectively, in Bihar. The state unit BJP chief Mangal Pandey told this to reporters, bringing to an end speculation about the alliance
BJP and Rashtriya Lok Samata Party (RLSP) today announced a pre-poll alliance for the general elections under the NDA's banner, with the two parties contesting 37 and three seats, respectively, in BiharThe state unit BJP chief Mangal Pandey told this to reporters, bringing to an end speculation about the alliance
Flanked by BJP national general secretary Dharmendra Pradhan, former deputy chief minister Sushil Kumar Modi, Nand Kishore Yadav, CP Thakur, RLSP national president Upendra Kushwaha and its state unit chief Arun Kumar, Pandey said the seats to be contested by the new ally in Bihar would be decided in due course of time
The state unit BJP chief neither confirmed nor denied speculation that RLSP will contest Nawada, Ujiarpur and Karakat parliamentary seats in Bihar
In addition to the pre-poll alliance with BJP, RLSP will also be part of the NDA in Bihar, Pandey said
RLSP national president Upendra Kushwaha hailed the leadership of Gujarat Chief Minister and wished him success in his endeavour to become the next prime minister which, Kushwaha claimed, would fulfil dreams of former chief minister and the socialist icon Karpoori Thakur
The RLSP president, who had quit JD(U) and also his seat as the Rajya Sabha MP two years ago to protest against Chief Minister Nitish Kumar's alleged dictatorial attitude, said his party would also support the BJP-sponsored 'rail chakka jam' in Bihar on February 28 to protest against the Centre's discriminatory attitude towards Bihar by denying it the special category status
IANS | Patna

March 18, 2014 Last Updated at 15:00 IST

BJP ally RLSP announces candidates for two Bihar seats

The Bharatiya Janata Party (BJP)'s ally in Bihar, the Rashtriya Lok Samata Party (RLSP), Tuesday announced candidates for two of the 3 seats it is contesting in the Lok Sabha polls in the state
RLSP chief Upendra Kushwaha, who released the first list, said the party has decided to field him from Karakat and Arun Kumar from Jehanabad
"The party will announce the candidate for Sitamarhi seat in the next three-four days," Kushwaha said
The BJP joined hands with Kushwaha's party last month and decided to give it three out of the 40 Lok Sabha seats in the state
Kushwaha is a former Janata Dal (United) Rajya Sabhamember but parted ways with Bihar Chief Minister Nitish Kumar in early 2013
The BJP is eyeing Kushwaha's castemen, Koeri, who have a presence across the state
The BJP has also joined hands with the Lok Janshakti Party (LJP) of Ram Vilas Paswan, who is known to enjoy the support of his Dalit caste, Paswan, known as Dusadh
The BJP has given seven seats to the LJP and the saffron party is contesting on 30 seats


आइये जानते है कुछ वैशाली के बारे में जहाँ हुई कार्यकारिणी की बैठक : रालोसपा बैठक वैशाली : बिहार

यह 6 वीं शताब्दी ईसा पूर्व के आसपास, वृजियन महासंघ (वृजि) महाजनपद में, एक गणतंत्र के पहले उदाहरण में से माना गया लिच्छवि की राजधानी था। यहाँ 539 ईसा पूर्व में 24 वें जैन तीर्थंकर भगवान महावीर का जन्म हुआ था और यह जैनियों के लिए एक पवित्र और शुभ तीर्थयात्रा स्थल माना जाता है क्योंकि भगवान महावीर वैशाली गणराज्य में कुण्डलग्राम में जन्मे थे। इसके अलावा गौतम बुद्ध महात्मन ने अपनी मृत्यु से पहले अपने अंतिम उपदेश प्रचार प्रसार यहीं दिया था।


Arun Kumar (Jahanabad)

Arun Kumar is an Indian politician who is a Member of the Lok Sabha representing the Jahanabad constituency in the Lok Sabha, which is the lower house of the Parliament of India. He won his seat in the Indian general election, 2014 as a Rashtriya Lok Samta Party candidate.[1] He is close to the present Prime Minister of India, Narendra Modi.[2] Kumar has been a member of various political parties and as of 2014 is Bihar State President of the Rashtriya Lok Samta Party. His father is Brijnandan Sharma, who represents Bihar Shikshak Sangh and he comes from the village of Maniyawan, 6 kilometres (3.7 mi) from Jehanabad. Along with Anand Mohan Singh and Akhlaq Ahmed, Kumar had been sentenced to death in 2007 for his alleged part in the lynching of a Dalit district magistrate. The ruling in his case and that of Ahmed was overturned on appeal when it was determined that he had been present but not involved in the murder; Singh's sentence was reduced to life imprisonment.[3][4] Kumar and a younger brother own Gyan Bharti, a chain of residential schools in Bihar. One of his four brothers is also an MLA, representing the Janata Dal (United) party


Ram Kumar Sharma (Sitamarhi)

Ram Kumar Sharmais an Indian politician and being anRashtriya Lok Samta Partycandidate.

TheBharatiya Janata Party(BJP)'s ally in Bihar, the Rashtriya Lok Samata Party (RLSP), announced candidates for two of the 3 seats it is contesting in theLok Sabhapolls in the state.

RLSP chief Upendra Kushwaha, who released the first list, said the party has decided to field him from Karakat and Arun Kumar from Jehanabad and the RAM KUMAR SHARMA is one of them from sitamadhi.


Political Career of Upendra Kushwaha

Upendra got involved in politics in 1985. From 1985 to 1988, he was Yuva Lok Dal’s General Secretary and its National General Secretary from 1988 to 1993. He assumed more importance in the state politics when he went on to become General Secretary of Samata Party in 1994. Upendra remained in that position till 2002.

It was in 2000 when Upendra got elected to the Bihar Assembly. He became Samata Party’s Deputy Leader at the assembly and remained in that post till 2004. However, he became the Leader of Opposition in Bihar Assembly in March 2004 and successfully managed his responsibilities till February 2005.


राष्ट्रीय लोक समता पार्टी उपेंद्र कुशवाहा द्वारा लॉन्च की गयी। राष्ट्रीय लोक समता पार्टी ने लोगों की आर्थिक बिहार के विकास और कल्याण को सुनिश्चित अगर RLSP ठोस परिणाम के मामले में एक वितरण की पेशकश की। राष्ट्रीय दल एक राष्ट्र का प्रतिनिधित्व करता है और यह दल बिहार की अद्भुत भविष्य का प्रतिनिधित्व करता है।हमारी पार्टी युवाओं और किसानों की ताकत से बिहार का नवनिर्माण करेगी.‘जय जवान जय किसान-मिलके करेंगे नवनिर्माण’

Read More !

रालोसपा राष्ट्रीयता को प्रधानतम रखता है, हर भारतीय, चाहे उसकी जाति, पंथ या धर्म कुछ भी हो वो सब से पहले एक भारतीय है जहां सच 'राष्ट्रीय' राजनीति में विश्वास रखता है। यह कुरीति  और समाज के विभाजन की संकीर्ण राजनीति में विश्वास नहीं करता। पार्टी के एजेंडे को देश के लिए अपने प्यार के आधार पर लोगों को एकजुट करने के लिए है। इस पहचान को प्रधानता एक बार फिर से एक सांस्कृतिक और आर्थिक महाशक्ति के रूप में भारत का फिर से उद्भव के लिए मार्ग चार्ट होगा और यह हमारे देश के लिए गौरव प्रदान करेगा।

Read More !

एक तथ्य के आधार पर कार्यान्वित होने के लिए पार्टी के कारण पार्टी का प्रसार-संचार, और कैसे देश के लिए अपनी प्रमुख प्रधान जनता की सेवा करना ही लक्ष्य है। यह सरकार या समुदायों की तरह नहीं बल्कि हमारे लोकतांत्रिक लोगों के लिए हम सामाजिक या पर्यावरणीय प्रभाव के रूप साबित होते हैं। विचार-विमर्श उद्देश्य है। मूल्यों का आधार एक व्यक्ति या समूह का विश्वास बनाए रखना हैं, और इस मामले में संगठन को हर प्रकार से यानि, जिसमें तथ्यात्मक और भावनात्मक रूप से निर्णयबध्य होना होगा अटल और अविचारणीय स्तिथि के समक्ष ।

Read More !

Give us a Miss Call for Membership : 1800 - 313 - 1838

Dial No