बिहार की राजनीति में नाकामयाब होतीं महिलाएं

राजनीति के क्षितिज पर किस्मत आजमाने में महिलाएं भी पुरुषों से कम नहीं हैं। पार्टी से टिकट न मिलने पर अपने बलबूते ही चुनाव मैदान में उतरने से परहेज नहीं करती। यह बात अलग है कि चुनाव में वे अपनी चमक बिखेरने में कामयाब न हो सकीं। प्रदेश में महिला मतदाताओं की संख्या करीब 5.5 करोड़ है, जो पुरुष मतदाताओं से कुछ ही कम है। इतनी बड़ी आबादी पर तमाम राजनीतिक दलों की नजर रहती है और इनलोगों को अपनी तरफ करने की तरह-तरह की कोशिशें की जाती हैं। हर दल महिला प्रकोष्ठ का गठन कर सभी पदों पर महिलाओं को विराजमान कर देता है। लेकिन, दल के दूसरे प्रकोष्ठ या सेल के वरीय पदों पर शायद ही किसी महिला को मनोनीत किया जाता हो। राजनीतिक दलों के बीच महिलाओं का सबसे बड़ा हिमायती होने की होड़ लगी रहती है। जब किसी महिला पर अत्याचार होता है तो सभी दल सड़क पर निकल कर धरना-प्रदर्शन करने में पीछे नहीं रहते। साथ ही मौका मिलने पर महिलाओं को अधिकार दिलाने की बड़ी-बड़ी बात करने में भी संकोच नहीं करते। लेकिन, महिलाओं का सबसे बड़ा हिमायती होने का दावा करने वाले दल विधानसभा चुनाव के वक्त उन्हें टिकट देने के मामले में दिलेरी नहीं दिखा पाते हैं। इस विधानसभा पर गौर करने से महिलाओं के प्रति दलों की दिलेरी का पता चल जाता है। 142 सीटों पर चुनाव लडऩे वाली जदयू ने सिर्फ 24 महिलाओं को ही टिकट के योग्य समझा। इसी तरह भाजपा ने 101 के विरुद्ध मात्र 11 महिलाओं को ही अपना उम्मीदवार बनाया। शेष दलों की स्थिति भी कमोबेश ऐसी ही रही। राजद ने छह, लोजपा ने सात, सीपीआइ ने तीन, सीपीआइ (एम) ने दो, सीपीआइ (एमएल) ने 11 महिलाओं को चुनाव मैदान में उतारा। ऐसा नहीं कि राजनीतिक दलों द्वारा मौका न दिए जाने पर महिलाएं खामोश होकर बैठ गयीं। राजनीतिक दलों के व्यवहार से क्षुब्ध महिलाओं ने निर्दलीय ही चुनाव मैदान में चुनौती दे दी। कुछ तो पार्टी उम्मीदवार के खिलाफ ही मैदान में उतर गयीं। महिलाओं के आक्रामक रूख से पार्टी के उम्मीदवार भी सहम गये। पिछले विधानसभा चुनाव में भाग्य आजमाने को निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर 158 महिलाएं खड़ी हुईं। सबको उम्मीद थी कि कम से कम से कम पांच- छह सीटों पर निश्चय ही फतह हासिल होगी, लेकिन ऐसा कुछ न हुआ और पार्टी प्रत्याशी के सामने निर्दलीय महिला प्रत्याशी टिक नहीं सकीं। इस मामले में डेहरी सीट से चुनाव मैदान में उतरीं ज्योति रश्मि भाग्यशाली रहीं। उन्होंने यहां से फतह हासिल की। अधिकांश निर्दलीय महिला प्रत्याशी अपनी जमानत तक बचा पाने में कामयाब न हो सकीं।

राष्ट्रीय लोक समता पार्टी उपेंद्र कुशवाहा द्वारा लॉन्च की गयी। राष्ट्रीय लोक समता पार्टी ने लोगों की आर्थिक बिहार के विकास और कल्याण को सुनिश्चित अगर RLSP ठोस परिणाम के मामले में एक वितरण की पेशकश की। राष्ट्रीय दल एक राष्ट्र का प्रतिनिधित्व करता है और यह दल बिहार की अद्भुत भविष्य का प्रतिनिधित्व करता है।हमारी पार्टी युवाओं और किसानों की ताकत से बिहार का नवनिर्माण करेगी.‘जय जवान जय किसान-मिलके करेंगे नवनिर्माण’

Read More !

रालोसपा राष्ट्रीयता को प्रधानतम रखता है, हर भारतीय, चाहे उसकी जाति, पंथ या धर्म कुछ भी हो वो सब से पहले एक भारतीय है जहां सच 'राष्ट्रीय' राजनीति में विश्वास रखता है। यह कुरीति  और समाज के विभाजन की संकीर्ण राजनीति में विश्वास नहीं करता। पार्टी के एजेंडे को देश के लिए अपने प्यार के आधार पर लोगों को एकजुट करने के लिए है। इस पहचान को प्रधानता एक बार फिर से एक सांस्कृतिक और आर्थिक महाशक्ति के रूप में भारत का फिर से उद्भव के लिए मार्ग चार्ट होगा और यह हमारे देश के लिए गौरव प्रदान करेगा।

Read More !

एक तथ्य के आधार पर कार्यान्वित होने के लिए पार्टी के कारण पार्टी का प्रसार-संचार, और कैसे देश के लिए अपनी प्रमुख प्रधान जनता की सेवा करना ही लक्ष्य है। यह सरकार या समुदायों की तरह नहीं बल्कि हमारे लोकतांत्रिक लोगों के लिए हम सामाजिक या पर्यावरणीय प्रभाव के रूप साबित होते हैं। विचार-विमर्श उद्देश्य है। मूल्यों का आधार एक व्यक्ति या समूह का विश्वास बनाए रखना हैं, और इस मामले में संगठन को हर प्रकार से यानि, जिसमें तथ्यात्मक और भावनात्मक रूप से निर्णयबध्य होना होगा अटल और अविचारणीय स्तिथि के समक्ष ।

Read More !

Give us a Miss Call for Membership : 1800 - 313 - 1838

Dial No