एनडीए सरकार ने साढ़े चार गुणा पंचायती राज का बजट बढ़ाया

गया। भाजपा के बिहार विधान मंडल के नेता सह पूर्व उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा है कि इस बार के विधान परिषद चुनाव में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के प्रत्याशियों की अप्रत्याशित जीत होने जा रही है। अभी राजग के पांच पार्षद विधान परिषद चुनाव मैदान में है। वहीं, जद यू, कांग्रेस एवं राजद के 19 पार्षदों चुनाव मैदान में है। उन्होंने कहा कि इतना तय है कि हम बढ़ेंगे। वहीं, यूपीए गठबंधन नीचे की ओर जाएगा। श्री मोदी गया में शुक्रवार की शाम भाजपा प्रत्याशी अनुज कुमार सिंह के आवास पर आयोजित प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित कर रहे थे।

भाजपा नेता श्री मोदी ने बताया कि यूपीए के मनमोहन सिंह की सरकार ने पंचायती राज के लिए पांच हजार करोड़ रुपया का बजट आंवटन दिया था। जबकि केन्द्र की राजग की नरेन्द्र मोदी सरकार ने पंचायती राज का बजट बढ़ाकर 23 हजार 500 करोड़ रुपया कर दिया। साथ ही राजग की मोदी सरकार पंचायती राज को विकास के मुद्दे पर और सशक्त बनाने के लिए कई अधिकार दी है। अब हर दो पंचायत पर एक कनीय तथा दस पंचायत पर कार्यपालक अभियंता की पदस्थापना की जाएगी। जो अपने कार्य क्षेत्र में करोड़ो रुपया की योजना को क्रियान्वित कराएंगे।

श्री मोदी ने आगे कहा कि नीतीश कुमार एवं लालू प्रसाद पहले अपराधी सरगनाओं को पालते-पोसते है। उन्होंने बताया कि अनंत सिंह के बड़े भाई दिलीप सिंह को लालू यादव ने मंत्री बनाया। नीतीश कुमार अपनी सभा में भीड़ जुटाने के लिए अनंत सिंह का इस्तेमाल करते रहे है। उन्होंने गया के जद यू प्रत्याशी मनोरमा देवी के पति बिंदी यादव पर कटाक्ष करते हुए कहा कि बिंदी यादव कौन हैं? किस आरोप में जेल गए? पूरे बिहार को पता है। पटना में कुख्यात अपराधी सरगना रीतलाल यादव परिषद का चुनाव लड़ रहा है। राजद का महासचिव है। लालू यादव अपनी बेटी मीसा के लिए लोकसभा चुनाव के समय समर्थन मांगने रीतलाल के घर गए थे। आज वहां से जद यू प्रत्याशी चुनाव लड़ रहा है। लेकिन लालू प्रसाद की इतनी ताकत नही रही कि वो युपीए प्रत्याशी का विरोध कर रहे अपने पार्टी के महासचिव रीतलाल के खिलाफ कोई कार्रवाई कर सके। श्री मोदी ने आगे कहा कि ऐसे नेताओं के बल पर बिहार में सुशासन आने का दावा नीतीश कुमार कर रहे है।

श्री मोदी ने जद यू के हाईटेक प्रचार पर चुटकी लेते हुए कहा कि नीतीश कुमार गुरुवार को भाजपा के गढ़ पटना सिटी में घरों में दस्तक देने गए थे। लेकिन वे वही गए जो उनके समर्थक थे। श्री मोदी के अनुसार इसके बावजूद जब घर की महिलाओं ने मुख्यमंत्री श्री कुमार से कई सवाल कर जबाव मांगना शुरु किया तो नीतीश कुमार के पास कहने के लिए कोई जबाव नही था। उन्होने कहा कि पटना में जब जद यू प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ बाबू को जनता ने पर्चा पर चर्चा कार्यक्रम के तहत घेरा। तब वशिष्ठ बाबू को जबाव देते नही बना। वशिष्ठ बाबू को जनता के सवालों ने भागने पर मजबूर कर दिया। श्री मोदी ने कहा कि जद यू के पास कार्यकर्ता है ही नही। भाजपा का मुकाबला कहां से जद यू करेगा। अब जनता जद यू को दस्तक देकर सवाल पूछेगी कि जबाव दो कि नालंदा एवं सीतामढ़ी में भीड़ पीट-पीटकर हत्या कर दे रही है। क्या यही सुशासन है? इस मौके पर सांसद हरि मांझी, विधायक प्रेम कुमार, श्यामदेव पासवान, वीरेन्द्र सिंह, सुरेन्द्र सिन्हा, अनिल कुमार, रामाधार सिंह, विधान पार्षद कृष्ण कुमार सिंह, राजेन्द्र प्रसाद गुप्ता, भाजपा प्रत्याशी अनुज कुमार सिंह सहित एनडीए के सभी जिलाध्यक्ष व कई नेता उपस्थित थे।

राष्ट्रीय लोक समता पार्टी उपेंद्र कुशवाहा द्वारा लॉन्च की गयी। राष्ट्रीय लोक समता पार्टी ने लोगों की आर्थिक बिहार के विकास और कल्याण को सुनिश्चित अगर RLSP ठोस परिणाम के मामले में एक वितरण की पेशकश की। राष्ट्रीय दल एक राष्ट्र का प्रतिनिधित्व करता है और यह दल बिहार की अद्भुत भविष्य का प्रतिनिधित्व करता है।हमारी पार्टी युवाओं और किसानों की ताकत से बिहार का नवनिर्माण करेगी.‘जय जवान जय किसान-मिलके करेंगे नवनिर्माण’

Read More !

रालोसपा राष्ट्रीयता को प्रधानतम रखता है, हर भारतीय, चाहे उसकी जाति, पंथ या धर्म कुछ भी हो वो सब से पहले एक भारतीय है जहां सच 'राष्ट्रीय' राजनीति में विश्वास रखता है। यह कुरीति  और समाज के विभाजन की संकीर्ण राजनीति में विश्वास नहीं करता। पार्टी के एजेंडे को देश के लिए अपने प्यार के आधार पर लोगों को एकजुट करने के लिए है। इस पहचान को प्रधानता एक बार फिर से एक सांस्कृतिक और आर्थिक महाशक्ति के रूप में भारत का फिर से उद्भव के लिए मार्ग चार्ट होगा और यह हमारे देश के लिए गौरव प्रदान करेगा।

Read More !

एक तथ्य के आधार पर कार्यान्वित होने के लिए पार्टी के कारण पार्टी का प्रसार-संचार, और कैसे देश के लिए अपनी प्रमुख प्रधान जनता की सेवा करना ही लक्ष्य है। यह सरकार या समुदायों की तरह नहीं बल्कि हमारे लोकतांत्रिक लोगों के लिए हम सामाजिक या पर्यावरणीय प्रभाव के रूप साबित होते हैं। विचार-विमर्श उद्देश्य है। मूल्यों का आधार एक व्यक्ति या समूह का विश्वास बनाए रखना हैं, और इस मामले में संगठन को हर प्रकार से यानि, जिसमें तथ्यात्मक और भावनात्मक रूप से निर्णयबध्य होना होगा अटल और अविचारणीय स्तिथि के समक्ष ।

Read More !

Give us a Miss Call for Membership : 1800 - 313 - 1838

Dial No